शिवसेना सबसे धनवान क्षेत्रीय पार्टी, आम आदमी पार्टी दूसरे पायदान पर

Download PDF

मुंबई- केंद्र और राज्य सरकार में शामिल भाजपा की सहयोगी शिवसेना सबसे धनवान क्षेत्रीय पार्टी साबित हुई है। एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफ़ॉर्म (एडीआर) की वित्तीय वर्ष 2016-17 की रिपोर्ट के अनुसार शिवसेना को 25.65 करोड़ रुपए का दान मिला है। एनडीआर ने यह रिपोर्ट देशभर के राजनीतिक दलों द्वारा चुनाव आयोग को दी गई जानकारी के आधार पर तैयार की है।

दान की धनराशि में 70 फीसदी की कमी आई

देश की सबसे बड़ी बजटवाली मुंबई महानगरपालिका में शिवसेना की सत्ता है। यह क्षेत्रीय पार्टी सबसे धनवान साबित हुई है। हालांकि शिवसेना सबसे धनवानी पार्टी साबित हुई है, लेकिन वर्ष 2015-16 की तुलना में पार्टी को प्राप्त होनेवाले दान की धनराशि में 70 फीसदी की कमी आई है। वर्ष 2015-16 में शिवसेना को  61.19 करोड़ रुपए दान में मिले थे। शिवसेना के बाद दिल्ली में सत्ताधारी अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी दूसरे पायदान पर है। आप पार्टी को 3 हजार 865 दानदाताओं ने  24.75 करोड़ रुपए दान में दिए हैं। सबसे धनवान क्षेत्रीय पार्टियों की सूची में पंजाब की शिरोमणी अकाली दल तीसरे स्थान पर है। शिरोमणी अकाली दल को वित्तीय वर्ष 2016-17 में 15.45 करोड़ रुपए दान में मिले थे।

वर्ष 2015-16 से वर्ष 2016-17 की कालावधि में आसाम गण परिषद और जनता दल (सेक्युलर) के दान में बढ़ोतरी दर्ज की गई है। आसाम गण परिषद को वर्ष 2016-17 में 0.43 करोड़ रुपए दान में मिले थे। पिछले वर्ष  2015-16 की तुलना में यह राशि 7 हजार 183 गुना है। जनता दल (सेक्युलर) को 4.2 करोड़ रुपए दान में मिले हैं।  वर्ष  2015-16 की तुलना में यह वृद्धि 596 गुना है। दोनों दलों को कई साल बाद सत्ता मिली है। कर्नाटक में 224 विधायकों के साथ जनता दल (सेक्युलर) की कांग्रेस के साथ सरकार में है। आसाम गण परिषद आसाम में भाजपा के साथ सत्ता में है।

Download PDF

Related Post