शिवसेना ‘मोदी’ की बुलेट ट्रेन के विरोध में  

Download PDF

मुंबई – बुलेट ट्रेन के खिलाफ शिवसेना का विरोध जारी है। बुधवार को नागपुर विधान सभा में शिवसेना ने फिर आक्रामक रूख अख्तियार किया। शिवसेना ने चेताया है कि यदि स्थानीय जनता के सहमति के बिना बुलेट ट्रेन परियोजना को कार्यान्वित नहीं होने दिया जाएगा। हालांकि मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने परियोजना की उपलब्धियां गिनाते हुए कहा कि इससे विकास के द्वार खुलेंगे और कईयों को रोजगार मिलेगा। इस परियोजना से किसी का अहित नहीं होगा।

बुलेट ट्रेन से खुलेगा राज्य का विकास द्वार- मुख्यमंत्री 

शिवसेना की नीलम गोर्हे ने विधान परिषद में बुलेट ट्रेन का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि कोई भी नई योजना आने पर वहां की स्थानीय जनता को योजना के बारे में फायदा नुकसान की जानकारी देने के  बाद जब स्थानीय जनता कीसहमति मिलती है तो उस भाग में योजना लगाई जाती है। पालघर जिला के कवालाआंबेसरीधामणगांववणईसाखरेदाभले ऐसे कुल नौ ग्राम पंचयातोंने बुलेट ट्रेन के विरोध में प्रस्ताव पास किया है। इस बुलेट ट्रेन के कारण 78 हेक्टर वन क्षेत्र नष्ट होगा। इसके बावजू बुलेट ट्रेन योजना को लेकरराज्य और केंद्र सरकार हठ क्यों  रही है।
गोर्हे ने कहा कि बुलेट ट्रेन लाने की अपेक्षा रेलवे में सुधार करके सर्वसमान्य जनता को अधिक सुविधा सरकारपलब्ध कराए। 
 
इसके जवाब में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि मुंबईअमदाबाद बुलेट ट्रेन योजना में एक ला करोड़ का निवेश होगा। देश  राज्य के विकास के लिए यह योजना पयोगी है। बुलेट ट्रेन के लिए ठाणे पालघर में जो जमीन अधिग्रहि की जाने वाली हैउसमें किसानों का कम से कम नुकसान होगा। किसानों की खेती पर किसी भी प्रका का प्रतिकूलप्रभाव नहीं पड़ेगा कई जगह यह ट्रेन भूमिगत मार्ग से जाएगी। किसानों की गलतफहमी को दूर किया जाएगा। वन जमीन कानून का पूरी तरह सेपालन किया जाएगा। वन क्षेत्र  पर्यावरण का किसी भी प्रकार का नुकसान नहीं होगा। गुजरात और महाराष्ट्र के किसानों को भरपाई की रकम देने केसंबंध में सामान्य नीति है।
Download PDF

Related Post