एनसीपी के राष्ट्रीय महासचिव पद तटकरे की नियुक्ति 

Download PDF
मुंबई – राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सुनिल तटकरे को संगठन के राष्ट्रीय स्तर की जिम्मेदारी सौंपी गई है। पार्टी के मुखिया शरद पवार की सिफारिश पर तटकरे को संगठन के राष्ट्रीय महासचिव पद पर चयनित किया गया है। इससे पहले तटकरे ने फिर से प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी संभालने से यह कहते हुए इनकार कर दिया था कि अब इस पद के लिए दूसरे नाम पर विचार किया जाना चाहिए।
शरद पवार ने फिर से राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए नामांकन भरा है। हालांकि पवार का अध्यक्ष चुना जाना तय है। इससे पहले तटकरे ने पार्टी प्रदेश अध्यक्ष पद का दावा यह कहते हुए छोड़ दिया था कि अब दूसरे को मौका मिलना चाहिए। तटकरे ने कहा कि उन्होंने विषम परिस्थितियों में प्रदेश अध्यक्ष का पदभार संभाला था। विधान सभा में पार्टी की 7 से 8 सीटें कम हो गई।
इस संबंध में पार्टी के जनरल सेक्रेटरी तारीक अनवर ने तटकरे और प्रदेश कार्यालय को भेजा है। पिछले चार साल से तटकरे प्रदेश संगठन की कमान संभाल हुए थे। तटकरे को काम से प्रभावित होकर पवार ने उन्हें राष्ट्रीय स्तर की राजनीति में सक्रिय करने का निर्णय लिया है। मौजूदा समय में एनसीपी में संगठनात्मक चुनाव की प्रक्रिया चल रही है। पवार ने फिर से राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए नामांकन भरा है। हालांकि पवार का अध्यक्ष चुना जाना तय है। इससे पहले तटकरे ने पार्टी प्रदेश अध्यक्ष पद का दावा यह कहते हुए छोड़ दिया था कि अब दूसरे को मौका मिलना चाहिए। तटकरे ने कहा कि उन्होंने विषम परिस्थितियों में प्रदेश अध्यक्ष का पदभार संभाला था। विधान सभा में पार्टी की 7 से 8 सीटें कम हो गई। विपक्षियों ने साम-दाम-दंड-भेद से पार्टी को कमजोर करने की कोशिश की, बावजूद इसके मैंने संगठन को मजबूत बनाए रखने की कोशिश की। मैंने चार साल तक प्रदेश अध्यक्ष का पद संभाला है। लिहाजा इस पद के लिए अब दूसरे नाम पर विचार किया जाना चाहिए। पार्टी में कई योग्य नेता मौजूद हैं। प्रदेश अध्यक्ष पद का चुनाव 29 अप्रैल को होगा। तटकरे ने पहली बार वर्ष 2013 में प्रदेशाध्यक्ष की कुर्सी संभाली थी। कांग्रेस-एनसीपी की आघाड़ी सरकार में तटकरे को जल संसाधन मंत्री बनाया गया था। कोकण के रायगढ़ के रहने वाले तटकरे की गिनती पार्टी के कद्दावर नेताओं होती है।
नाणार परियोजना को लेकर सरकार की आलोचना
तटकरे ने कहा कि कोकण की प्रस्तावित रिफाइनरी परियोजना से ध्यान हटाने के लिए सरकार ने मुंबई का डीपी प्लान घोषित किया है। देश की आर्थिक राजधानी मुंबई के डीपी प्लान की जानकारी प्रधान सचिव और मनपा आयुक्त दे रहे हैं, यैसा उन्होंने अपने राजनीतिक जीवन में कभी नहीं देखा था। तटकरे ने परियोजना को लेकर भाजपा और शिवसेना में चल रहे विवाद की जोरदार आलोचना की। प्रदेश के उद्योग मंत्री सुभाष देसाई परियोजना की अधिसूचना रद्द करने की घोषणा करते हैं, दूसरी ओर तत्काल मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस उस पर उत्तर देते हुए कहते हैं कि उद्योग मंत्री को अधिसूचना रद्द करने का अधिकार ही नहीं है। वह देसाई की व्यक्तिगत मत था। तटकरे ने यह कहते हुए मुख्यमंत्री की चुटकी ली कि मेरे 15 वर्ष के कार्यकाल में मुझे पता ही नहीं चला कि नीतिगत निर्णय पर भी व्यक्तिगत मत हो सकता है। नाणार परियोजना की प्रक्रिया शुरू होने की अधिकृत जानकारी भी उपलब्ध नहीं है। उन्होंने प्रदेश की सूखाग्रस्त तहसीलों की सूची को लेकर भी सरकार की निंदा की।
Download PDF

Related Post