Tharoor Blames Romantic Songs For Rise In Stalking!

Download PDF

छेड़छाड़ के लिए हिंदी के रोमांटिक गाने ज़िम्मेदार : शशी थरूर

मुंबई: पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता डॉ शशी थरूर ने आरोप लगाया है कि हिंदी के रोमांटिक गीतों में रोमांस के बहाने दिखाई जाने वाली छेड़छाड़ से इस मानसिकता को को बढ़ावा मिलता हैं.” डॉ शशी थरूर छेड़छाड़ के खिलाफ आयोजित एक गोष्ठी में बोल रहे थे,

” छेड़छाड़ के ख़िलाफ़ इस पहल का समर्थन करना स्वाभाविक है. भारत में स्टॉकर्स की निडरता का सबसे बड़ा कारण इस अपराध का जमानती होना है। “

“बहुत हुआ, अब पीछा करना बंद करो!” कांग्रेस के नेता डॉ। शशि थरूर और वरिष्ठ वकील कामिनी जायसवाल के सहयोग से द क्विंट के हाल ही में हुए इवेंट का यही स्लोगन था. पीछा करने और छेड़छाड़ की बढाती घटनाओं पर रोक लगाने के लिए सार्थक कानून बनाने की सम्भावनाओ को तलाशने के लिए इन महानुभावो का यहाँ पर समागम हुआ था. इवेंट में महसूस किया गया कि इस तरह की हरकतों को अनदेखा किये जाने का परिणाम एसिड अटैक और मोलेस्टेशन होता है.

डॉ थरूर ने कहा कि ” छेड़छाड़ के ख़िलाफ़ इस पहल का समर्थन करना स्वाभाविक है. भारत में स्टॉकर्स की निडरता का सबसे बड़ा कारण इस अपराध का जमानती होना है। ” थरूर ने हिंदी के रोमांटिक गीतों की आलोचना करते हुए कहा कि गानों में रोमांस के बहाने दिखाई जाने वाली छेड़छाड़ से इस मानसिकता को को बढ़ावा मिलता हैं.”

देश के कानून की आलोचना करते हुए, वकील करुणा नंदी ने कहा, “कानून की कमज़ोरी से बड़े पैमाने पर नुकसान हो रहा है। स्टॉकर हर जगह हैं लेकिन जब एक बार कोई कहदे “नहीं” तो हमें इसका सम्मान करना चाहिए। ”

एसिड हमले की शिकार हुईं लक्ष्मी अग्रवाल ने कहा कि लक्षित महिलाओं को केवल तभी समर्थन मिलेगा जब वे स्वयं के लिए लड़ना सीखेंगी।

डॉ थरूर ने कहा कि वह इसे गैर-जमानती अपराध बनाने के लिए संसद में एक निजी विधेयक लाएंगे. “मैं आपको आश्वासन देता हूं कि बजट सत्र (संसद की) की शुरुआत में हम इसे सर्वप्रथम प्रस्तुत करेंगे. यहां सिर्फ एक राष्ट्रीय कानून में संशोधन करने की आवश्यकता है।”

Download PDF

Related Post