गांधी जयंती पर राज्य में आयोजित होंगे 150 कार्यक्रम 

Download PDF

मुंबई- वर्धा जिले के सेवाग्राम आश्रम और परिसर के विकास के लिए सरकार ने 144 करोड़ रूपए के मसौदे को मंजूरी दी है। वित्त मंत्री तथा वर्धा जिले के पालकमंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने इस मसौदे पर  कालबद्ध व गुणवत्तापूर्ण पद्धति से अमल करने की सूचना  संबंधित मशीनरी दी है। इसके लिए उन्होंने कोअर टीम  गठित करने कहा है । गांधी जयंती पर राज्य में 150 आयोजित किए जाने की जानकारी वित्त मंत्री ने दी है।

2nd, ऑक्टोबर गांधी जयंती 

सह्याद्री अतिथि गृह में शुक्रवार को हुई बैठक में वे बोल रहे थे । बैठक में सांसद रामदास तडस, विधायक पंकज भोयर, नियोजन विभाग के अपर मुख्य सचिव देबाशिष चक्रवर्ती, सेवाग्राम आश्रम के शेख हुसैन सहित संबंधित विभागों के सरकारी अधिकारी मौजूद थे। महात्मा गांधी की जयंती को 2 अक्टूबर 2019 को 150 वर्षे पूरे हो रहे हैं। इस पॄष्ठभूमि पर महात्मा गांधीजी के  विचारों पर आधारित 150 कार्यक्रमों का आयोजन राज्य में किया जाएगा। मुनगंटीवार ने आगे कहा कि महात्मा गांधीजी सेवाग्राम में वर्ष 1030 से वर्ष 1948 तक रहे। इस आश्रम में उन्होंने कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए। उनकी 150 वीं जयंती के उपलक्ष्य में उनके वास्तव्य से पुनीत हुए सेवाग्राम का विकास हो, महात्मा गांधीजी के विचारों से फलित दुनियाभर के उनके अनुयायियों के मार्गदर्शन का एक उत्कृष्ट केंद्र इस माध्यम से विकसित हो, इस दृष्टिकोण से सेवाग्राम विकास प्रारूप के काम की योजना बनाई गई है। इसमें और कौन सी नवीनतम योजना अथवा उपक्रम लागू कर सकते हैं इसका विचार किया जाना चाहिए। इसमें लोगों से भी  सुझाव मंगाए जाएं ।   

मुनगंटीवार ने बताया कि मंजूर मसौदे में से मार्च 2018 तक 85.12 करोड़ रूपए की धनराशि आवंटित कर दी गई है। वित्तीय वर्ष 2018-19 के लिए बजट में 26.08 करोड़ रूपए की निधि का प्रावधान किया गया है। मुनगंटीवार ने बताया कि प्रारूप में अनेक उपक्रम शामिल किए गए हैं। इसमें  सेवाग्राम परिसर में अंगुरीबाग के पास 1 हजार व्यक्तियों के लिए सभागृह, अध्ययन केंद्र, सुसज्ज ग्रंथालय, यात्री निवास परिसर में निवासी कॉटेज का निर्माणकार्य, यात्री निवास में 4 हजार लीटर क्षमतावाली पानी की टंकी, कस्तुरबा चौक से आश्रम तक की सड़क में सुधार, कंपाऊंड वॉल, गंदे पानी एवं कचरा प्रबंधन के काम, सूचना केंद्र, बुटीबोरी जंक्शन से वर्धा एवं सेवाग्राम इस मार्ग पर वृक्षारोपण,  वर्धा और पवनार विभाग के सांस्कृतिक और ऐतिहासिक स्थलों का विकास, हेरिटेल ट्रेल का निर्माण, पवनार के दिल्ली गेट व परिसर का संवर्धन जैसे  विविध कामों का इसमें समावेश है।

Download PDF

Related Post