ई-वे बिल की सीमा 50 हजार से बढाकर 1 लाख रुपए तक

Download PDF

मुंबई –  महाराष्ट्र के वित्त मंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने कहा है कि राज्य मे ई वे बिल की सीमा 50 हजार रुपये से बढ़ाकर 1 लाख रुपये कर दी गई है। पिछले साल की पहली तिमाही की तुलना में इस साल कर राजस्व में 39 फीसदी वद्धि हुई है।

जीएसटी के कार्यान्वयन के कारण, देश सही मायने में आर्थिक स्वतन्त्रता का उपभोग कर रहा है। इस कर प्रणाली को निर्धारित करते समय योग्यता के आधार पर सभी निर्णय सर्वसम्ति से लिया गया, यह आसान और सहज नियम सभी के सहयोग से पारित किया गया, जिससे देश अब आर्थिक विकास में तेजी से आगे बढ़ रहा है – सुधीर मुनगंटीवार

मुनगंटीवार वस्तु एवं सेवा कर प्रणाली लागू होने के अंक साल बाद उस पर अमल की समीक्षा की पृष्ठभूमि में आयोजित एक कार्यक्रम में बोल रहे थे। कार्यक्रम में वित्त राज्यमंत्री दीपक केसरकर, विधायक  राज पुरोहित,राहुल नार्वेकर, वित्त विभग के अतिरिक्त  मुख्य सचिव यूपीमएस मदान, केंद्रीय वस्तु एवं सेवा कर विभाग, मुंबई क्षेत्र के मुख्य आयुक्त संगीता शर्मा, आयुक्त राजीव जलोटा समेत उद्योग- व्यापार क्षेत्र की कई हस्तियां मौजूद थी।

मुनगंटीवार ने कहा कि भुगतान को आसान और सहज बनाया जाए तो व्यापारी कर का भुगतान करते हैं और इसका सबसे  अच्छा उदाहरण इस बार के कर राजस्व में दिखाई देता है। मुनगंटीवार ने कहा कि जीएसटी के कार्यान्वयन के कारण, देश सही मायने में आर्थिक स्वतन्त्रता का उपभोग कर रहा है। इस कर प्रणाली को निर्धारित करते समय योग्यता के आधार पर सभी निर्णय सर्वसम्ति से लिया गया, यह आसान और सहज नियम सभी के सहयोग से पारित किया गया, जिससे देश अब आर्थिक विकास में तेजी से आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र का वित्त मंत्री होने पर उन्हें गर्व है। यह राज्य देश के आर्थिक विकास में प्रमुखयोगदान देने वाला राज्य है। हम एक निडर, भूख मुक्त और विषमता मुक्त भारत बनाना चाहते हैं। यह जीएसटी के बढ़ते कर राजस्व के माध्यम से किया जा सकता है। ये सहज, सुलभ कर प्रणाली लागू करने में हम सभी को मिलकर देश को सशक्त बनाना है और समाज के हर तबके तक विकास का लाभ पहुंचाना है।

Download PDF

Related Post