सीटों को लेकर उलझा पेंच, अंतिम फैसला राहुल और पवार के दरबार में

Download PDF

मुंबई। आगामी लोकसभा चुनाव में गठबंधन को लेकर कांग्रेस और एनसीपी के बीच चल रहा बातचीत का दौर सीट बंटवारे को लेकर उलझ गया है। बताया जाता है कि राज्य की 48 संसदीय सीटों में से आठ सीटों को लेकर पेंच उलझा हुआ है। दूसरी ओर मित्र दलों को सम्मानजनक हिस्सेदारी देने को लेकर भी दोनों दलों में मंथन जारी है। फिलहाल कांग्रेस-एनसीपी में गठबंधन करने को लेकर अंतिम फैसला कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी और एनसीपी मुखिया शरद पवार पर छोड़ा गया है। 

आठ सीटों को लेकर पेंच उलझा

कांग्रेस और एनसीपी के बीच अब तक गठबंधन को लेकर पांच बैठकों का दौर पूरा हो चुका है। परंतु प्रदेशस्तर पर दोनों दलों में सीटों को लेकर सहमति नहीं बन सकी है। आठ सीटों को लेकर पेंच उलझा हुआ है। इससे पहले एनसीपी ने राज्य की 48 संसदीय सीटों में से आधे-आधे फार्मूले के आधार पर 25 सीटें मांगी थी। लेकिन कांग्रेस ने एनसीपी के इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया था। पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद कांग्रेस के हौसले बुलंद हैं। तीन राज्यों राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस ने अपने दम पर सरकार बनाई है। इससे पहले कांग्रेस नेता खुद मानते थे कि पार्टी को क्षेत्रीय दलों की वैशाखी लेनी पड़ती है। अब पार्टी के बढ़े ग्राफ से कांग्रेसी नेताओं को अंदाज है कि अब उन्हें क्षेत्रीय दलों को ज्यादा महत्व देने की आवश्यकता नहीं है। लिहाजा कांग्रेस महाराष्ट्र में सीटे बंटवारे में ज्यादा हिस्सेदारी चाहती है। दोनों पार्टियों को अपने-अपने कोटे से मित्र दलों को भी सीटें देनी है। 

एनसीपी खेमा पीछे हटने को तैयार नहीं

एनसीपी खेमा भी सम्मानजनक हिस्सेदारी पाए बिना पीछे हटने को तैयार नहीं है। एनसीपी ने सांसद राजू शेट्टी की स्वाभिमानी पार्टी से समझौता किया है। राजू शेट्टी हातकणंगले सीट से सांसद हैं। एनसीपी मुखिया शरद पवार उन्हें हातकणंगले संसदीय सीट से चुनाव लड़ाने का वादा कर चुके हैं। हाल ही में इससे नाराज होकर पूर्व सांसद रही नवोदिता माने ने एनसीपी छोड़कर फिर से शिवसेना में घर वापसी की है। चर्चा है  किसानों में पैठ रखनेवाले सांसद राजू शेट्टी अपनी पार्टी के लिए 8 सीटें मिलने की चाहत रखते हैं। इधर पवार ने कोकण में संगठन को सशक्त बनाने के लिए भाजपा कोटे से राज्यसभा सदस्य और महाराष्ट्र स्वाभिमान पार्टी के अध्यक्ष नारायण राणे का भी मन टटोला है। दूसरी ओर भारिप बहुजन महासंघ के अध्यक्ष प्रकाश आंबेडकरअसदुद्दीन ओवैसी की एमआईएम पार्टी से समझौता कर चुके हैं। आंबेडकर की पार्टी मराठावाडा और विदर्भ के दलित बेल्ट में प्रभाव रखती है। वे भी कांग्रेस सेजुड़ना चाहते हैं।

ओवैसी  से कांग्रेस को एेतराज

हालांकि इस समीकरण में  ओवैसी   से कांग्रेस को एेतराज है, जबकि प्रकाश आंबेडकर एनसीपी से नाराज हैं। कांग्रेस को चुनावी समीकरण बिठाने के लिए सपा, पीपल्स रिपब्लिकन पक्ष सहित अन्य छोटे दलों को भी साथ लेना है। इन दलों की भी सम्मानजनक हिस्सेदारी की मांग है। सभी दल चार से पांच सीटों की चाहत रखते हैं। बहरहाल महागठबंधन पर अंतिम फैसला लेने का प्रस्ताव दोनों दलों के आलाकमान के पाले में चला गया है। 

Download PDF

Related Post