शिवसेना के सारथी बने पीके !

Download PDF

मुंबई। शिवसेना आगामी लोकसभा चुनवा में जबरदस्त परफोर्मेंस देने के लिए राजनितिक में सफल चुनावी रणनीतिकार माने जाने वाले प्रशांत किशोर (पीके) की मदद लेगी। चुनावी रणनीतिकार और जेडीयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पीके ने एनडीए गठबंधन की सहयोगी शिवसेना के लिए आगामी लोकसभा और विधानसभा चुनाव में रणनीति बनाने का प्रस्ताव दिया है। मंगलवार को मुंबई में प्रशांत किशोर ने शिवसेना पक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे से उनके निवास मातोश्री पर मुलाकात की, जिसमें शिवसेना के सभी सांसद मौजूद रहे। 

घंटों चली बंद कमरे में मुलाकात

इस बैठक में भाजपा के साथ चुनाव पूर्व गठबंधन पर कोई चर्चा नहीं हुई। हालांकि भाजपा की ओर से बयान आया है कि इसका फायदा एनडीए गठबंधन को ही होगा। घंटों चली बंद कमरे में मुलाकात के बीच आगामी लोकसभा चुनाव में शिवसेना के रणनीति को लेकर चर्चा की गई। शिवसेना कैसे बेहतर परिणाम ला सकती है। इसके बाद उद्धव ने पार्टी के सांसदों और पदाधिकारियों ई बैठक ली. जिसमे उन्होंने पहली बार युति के संकेत दिए, कहा कि युति हो या ना हो तैयारी सभी सीटों पर होनी चाहिए। युति को लेकर फैसला पार्टी करेगी , कार्यकर्त्ता जमीन पर काम करें। 

वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा को अपेक्षा से अधिक परिणाम देने वाले प्रशांत ने बिहार में नितिश कुमार के जेडीयू के लिए भी चुनावी रणनीति बनाई और सफल रहे। हालाँकि बिहार में उनका जादू उतना नहीं चला लेकिन एक सफल रणनीतिकार के रूप में स्थापित हो चुके पीके से उद्धव ने भी आगामी लोकसभा चुनाव में सहायता लेने का मन बनाया है। सूत्रों की माने तो पीके ने उद्धव को सवाल किया 24 -24 का फार्मूला बुरा क्यों है।  उद्धव को सुझाव भी दिया की युति को मत तोड़ो , सीटों के बटवारे में भाजपा से एक दो सीटें कम भी मिले तो क्या बुरा है। हालाँकि पीके ने उद्धव के साथ उनकी मुलाकात को एक सदिक्ष भेट करार दिया। 

पीके से चुनावी रणनीति पर चर्चा के बाद उद्धव ने अपने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं एवं सांसदों के साथ बैठक लेकर उनके मूड को भी जानने का प्रयास किया। उद्धव ने पार्टी के वरिष्ठ एन्टों , सांसदों और मंत्रियों की बैठक बुलाई थी।  इस बैठक में प्रशांत किशोर के साथ हुई चर्चा का कुछ अंश उद्धव ने बताया और नेताओं से पूछा भी की क्या युति नहीं होगी तो वे चुनाव नहीं लड़ेंगे तो सभी नेतोँ ने जोश के साथ कहा लड़ेंगे , उद्धव ने इस बैठक में साफ़ संकेत दिया कि युति हुई तो भी ठीक नहीं हुई तो भी ठीक. कार्यकर्त्ता चुनाव की तयारी में लग जाएं।  शिवसैनिकों को बड़ी लड़ाई लड़नी है तयारी अभी से शुरू करें। शिवसेना सभी सीटों के लिए चुनावी तयारी करेगी। इस बैठक में शिवसेना के संसद अरविन्द सावंत , संजय राउत , गजानन कीर्तिकर , आनंदराव अडसूल सहित कई नेता उपस्थित थे।

Download PDF

Related Post